Get Android App

An ISO 9001:2008 Certified Academy

Mumbai | Ahmedabad | New Delhi | Pune | Kolkata

logo

International Professional Business Training

Enquiry / Helpline
+91-9829693797
+91-9828683810

Welcome To Export Import Academy

|

If you want to do really 1st Export shipment then join us

|

Complete Solution for Your Export Business

|

Get Practical Training by Experts

Kshemkari Export Import Academy Blog

  • 18 Sep
  • 2019

भारतीय प्लास्टिक निर्यात में वृद्धि |

भारतीय प्लास्टिक निर्यात  दि प्लास्टिक एक्सपोर्ट प्रमोशन कौंसिल (प्लेक्सकौंसिल) ने  एक बयान में यह जानकारी दी कि समीक्षाधीन अवधि में अन्य वस्तुओं की तुलना में प्लास्टिक के निर्यात की वृद्धि दर अधिक रही। वित्त वर्ष 2018-19 की पहली छमाही के दौरान देश के कुल निर्यात में 12.5 फीसदी की वृद्धि हुई, जोकि 164.04 अरब डॉलर रहा, जबकि इसके पिछले वित्त वर्ष की पहली छमाही के दौरान यह 145.75 अरब डॉलर था। अधिक जानकारी के लिए पढ़ें  अधिकारियों ने कहा कि हाल के महीनों में भारत से समुद्री उत्पादों, कपास, बायो केमिकल (जैविक रसायन), अंगूर और प्लास्टिक के निर्यात में महत

Read More
  • 14 Sep
  • 2019

फूलों का निर्यात- एक स्वर्णिम भविष्य |

भारत में कई कृषि – जलवायु क्षेत्र हैं जो नाजुक और कोमल फूलों की खेती के लिए अनुकूल है। भारतीय फूल उद्योग में गुलाब, रजनीगंधा, ग्लेड्स, एंथुरियम, कार्नेशन, गेंदा आदि फूल शामिल है। फूलों की खेती अत्याधुनिक पॉली और ग्रीनहाउस दोनों तरह की स्थितियों में की जाती है। विस्तार से पढ़ें  वर्ष 2015-16 के दौरान, राष्ट्रीय बागवानी बोर्ड द्वारा प्रकाशित राष्ट्रीय पुष्पकृषि डेटाबेस के अनुसार भारत में फूलों की खेती के लिए 249 हज़ार हेक्टयर क्षेत्र था जिसमें से शिथिल फूलों उत्पाद 1,659 मिलियन टन हुआ तथा खुले फूलों का उत्पाद 484 हजार टन हुआ। फूलों की खेती कई राज्

Read More
  • 13 Sep
  • 2019

समुद्री खाद्य निर्यात उद्योग- एक सफल और लाभदायक विकल्प |

भारत में समुद्री खाद्य निर्यात उद्योग पिछले कुछ वर्षों में नए उच्च स्तर तक पहुंच गया है। डिब्बाबंद चिंराट से लेकर मछली, विद्रूप, कटलफिश, ऑक्टोपस, केकड़े, कम्मर और मुसल्स आदि की अन्य किस्मों को अब निर्यात किया जा रहा है। भारत का समुद्री खाद्य निर्यातक संघ भारतीय समुद्री खाद्य निर्यात के बिरादरी की भलाई के लिए पूरा करता है| आईये विस्तार से जाने  भारत का शाकाहारी भोजन ही नहीं बल्कि मांसाहारी भोजन भी विदेशो में बहुत लोकप्रिय है| गत वर्ष भारत से 45 ,106 .89  करोड़ रूपए का निर्यात किया गया| यह राशि सिर्फ भारतीय झींगा और मछली के निर्यात से प्राप्त हुई

Read More
  • 05 Sep
  • 2019

भारत से किस प्रकार के अनाज का होता है ज्यादा निर्यात

जैसा कि हम सभी जानते है कि भारत एक कृषि-प्रधान देश है| बाकी देशों कि तुलना में, भारत में अनाज का उत्पादन सबसे ज्यादा होता है| भारत चावल, गेहूं और अन्य अनाज के मामले में दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा उत्पादक देश है| विश्व बाजार में अनाज के लिए भारी मांग होने से भारतीय अनाज उत्पादों के निर्यात बढ़ोत्तरी हो रही है| आईये जाने विस्तार से  भारत में घरेलू जरूरतों को पूरा करने के लिए चावल, मक्का और गेहूं आदि के निर्यात पर प्रतिबंध लगाया गया था| अब, विश्व बाजार में भारी मांग को देखते हुए प्रतिबंध हटा लिया गया है, लेकिन केवल सीमित मात्रा में अनाज के निर्यात की अ

Read More
  • 02 Sep
  • 2019

मूँगफली के निर्यात से हुआ देश भर में खुशी का माहौल

भारत में मूंगफली एक तिलहन फसल है| मूंगफली उत्पादक राज्यों में गुजरात, तमिलनाडू, आंध्रप्रदेश, महाराष्ट्र, कर्नाटक और राजस्थान का मुख्य स्थान है| मूंगफली की कई किस्में होती है जैसे- एचएनजी-10, जीजी-2, जीजी-7, प्रकाश, एम-13 आदि| मूंगफली की किस्म के हिसाब से मूंगफली पकने की अवधि का समय भी अलग- अलग होता है| मूंगफली निर्यात की अधिक जानकारी के लिए क्लिक करें  मूंगफली दाने के निर्यात में बढ़ोतरी के बावजूद भी किसान मूंगफली की फसल को समर्थन मूल्य से नीचे बेचने को मजबूर हैं| वर्ष 2018-19 के पहले पांच महीनों अप्रैल से अगस्त के दौरान मूंगफली दाने का निर्यात बढ़कर

Read More
  • 30 Aug
  • 2019

कैसे हुआ भारतीयों का फलों में आम इतना 'खास' निर्यात के लिए|

आम को फलों का राजा कहते हैं| इसका नाम सुनते ही सभी के मुंह में पानी आ जाता है| आम हमारे देश का राष्ट्रीय फल है। इसे सदियों से उगाया जाता है| यह हमारे जीवन से इस प्रकार जुड़ गया है कि उत्सवों और त्योहारों पर घर में आम की पत्तियों के बंदनवारों से सजाए जाने लगे| यज्ञ के लिए आम की पवित्र लकड़ी की समिधा बनाई जाने लगी| अब यही भारतीय आम विदेशियों को भी ललचाने लगा है| आम के लिए विदेशी मुंहबोली कीमत देने के लिए तैयार हैं| एशिया, यूरोप, अमेरिका, अरब, अफ्रीका समेत 60 से ज्यादा देशों में आम की मांग तेजी से बढ़ी है| अधिक जानकारी के लिए क्लिक करें    आम अब डॉल

Read More
  • 29 Aug
  • 2019

काबुली चना निर्यात को बढ़ावा देने के लिए सरकार कम करेगी एक्सपोर्ट ड्यूटी|

चने का सबसे ज्यादा उत्पादन भारत में किया जाता है| चने की ही एक किस्म को काबुली चना या छोले भी कहा जाता है| ये हल्के बादामी रंग के ये चने काले चने की तुलना में बड़े होते हैं|  विदेश से मांग बढऩे के कारण काबुली चने के भाव उछलकर 6 महीने में दोगुने हो गए हैं। कारोबारियों के मुताबिक उत्पादक देशों में इसका उत्पादन गिरने की वजह से निर्यात बाजार में काबुली चने की जबरदस्त मांग है। देशी बाजार में भी इसकी खपत अच्छी खासी है। इस वजह से भाव आसमान छू रहे हैं| निर्यात मांग में उछलने लगा काबुली चना| चने का ज्यादातर उत्पादन मध्य प्रदेश, कर्नाटक, महाराष्ट्र और

Read More
  • 27 Aug
  • 2019

एल्युमीनियम के निर्यात शुल्क को लेकर सरकार कर रही है विचार |

आज हम इस पोस्ट में एल्युमीनियम के निर्यात के बारे में जानेंगे  | विस्तारपूर्वक अवश्य पढ़ें| भारत में जम्मू कश्मीर, मुंबई, कोल्हापुर, जबलपुर, रांची, सोनभद्र, बालाघाट तथा कटनी में बॉक्साईट के विशाल भंडार पाए जाते है| देश के एल्युमीनियम निर्यात ने पिछले वर्ष की पहली छमाही यानी अप्रैल-सितंबर अवधि के दौरान 21 % की उछाल दर्ज की है| उद्योग के आंकड़े बताते हैं कि वर्ष 2018 - 2019 की पहली छमाही में एल्युमीनियम खंडों का निर्यात मात्रा के हिसाब से 7,72,000 टन के स्तर पर पहुंच गया है| जो पिछले वर्ष की इस अवधि में 6,38,000 टन था। प्राथमिक उत्पादकों के इस निर्यात व्यापार से लगातार हो रहे निर्यात स

Read More
  • 26 Aug
  • 2019

शुद्ध पानी का व्यापार मतलब करोड़ो का मुनाफा|

स्थायी क्षेत्र को ध्यान में रखते हुए शुद्ध पानी प्लांट व्यापार (Mineral water plant business) शुरू करना लाभकारी हो सकता है| बड़ी- बड़ी ब्रांड जैसे- Bisleri, Kingfisher, Aquafina, Kinely इत्यादि के साथ जुड़ कर आप व्यापार को दिशा प्रदान कर सकते है| अधिक जानकरी के लिए क्लिक करें  शुद्ध पानी किसी भी अशुद्ध पानी को साफ करके बनाया जाता है| पानी संसार में सभी जीवधारियों के लिए बहुत आवश्यक है| इसलिए पीने के पानी को हमेशा अशुद्धता से दूर रखना चाहिए| जैसा कि हम पहले भी बता चुके है "शुद्ध पानी", पानी का एक रूप होता है|  इसके नाम के अनुरूप पानी में आवश्यक मात्रा में  Barium, Iron, Manganese इत्यादि विद्यम

Read More
  • 25 Aug
  • 2019

अब विदेशी बाजार में करें गुड़ का निर्यात |

भारत गुड़ निर्यात में, विश्व स्तर पर कदम रखने की ओर है| जैसा कि सभी जानते है कि गुड़ एक प्राकृतिक चीनी है जो कि किसी प्रकार के रसायन का उपयोग किए बिना उत्पादित किया जाता है। भारत में कुल गुड़ उत्पादन का 70% से अधिक उत्पादन किया जाता है। गुड़ को लोकप्रिय रूप से "औषधीय चीनी" के नाम से जाना जाता है और पौषकता के आधार पर यह शहद के साथ तुलनीय है| इस बारे में अधिक जानकारी के लिए यहां क्लिक करें 3000 वर्षों से इसे आयुर्वेदिक चिकित्सा में मीठे के रूप में इस्तेमाल किया जाता है। भारतीय आयुर्वेदिक चिकित्सा में गुड़ को गले और फेफड़ों के संक्रमण और इलाज में फाय

Read More
  • 06 May
  • 2019

कहाँ और कैसे किया जाए, भारत से अनार का निर्यात ?

आज इस पोस्ट में अनार के निर्यात के बारे में बताया जायेगा|  अनार एक उच्च मूल्य वाली फसल है | अनार के पेड़ के सभी भागों का चिकित्सीय मूल्य बहुत अधिक होता है और इसका उपयोग चमड़ा और मरण उद्योग में किया जाता है| अंतरराष्ट्रीय बाजार में मांग ने उच्च लाभ को बढ़ावा मिलता जा रहा है| अनार विभिन्न नामों द्वारा भी जाने जाते है | यह लगभग 3 से 4 प्रकार के प्रकार के होते हैं, जिनकी भिन्नता उनके रंग से की जाती है, जैसे - कुछ अनार लाल, नारंगी, पीली या यहां तक कि क्रीम रंग होते हैं| अधिक जानकारी के लिए क्लिक करें अनार सभी युवा और बूढ़े, भारतीय या विदेशी लोगों द्वा

Read More
  • 03 May
  • 2019

निर्यात आयात व्यापार के परिवहन में कितने तरीके होते है ?

Kshemkari Export Import Academy में निर्यात आयात व्यापार परिवहन समझना और जानना बहुत महत्वपूर्ण है कि किस प्रकार का परिवहन लागत प्रभावी और कुशल होगा| अंतर्राष्ट्रीय व्यापार के लिए, परिवहन और वितरण के तरीके को प्रमुख कारक माना जाता है।  एक्सपोर्ट इमपोर्ट की अधिक जानकारी  के लिए क्लिक करें आयात और निर्यात चार अलग-अलग तरीकों से किया जा सकता है, जैसे –    रेल वाहक- माल को स्थानांतरित करने के लिए, रेल परिवहन कम लागत पर बड़ी मात्रा में माल ले जा सकता है। यह परिवहन अन्य साधनों की तुलना में पर्यावरण के अनुकूल साधन है। रेलवे द्वारा परिवहन में सीमेंट, कोयल

Read More
  • 02 May
  • 2019

क्वोटेशन का उपयोग कहाँ और कैसे किया जाता है?

Kshemkari Export Import Academy में आज क्वोटेशन के विषय में चर्चा करेंगे | क्वोटेशन क्या है, कैसे उपयोग किया जाता है, कहाँ जरुरत होती है क्वोटेशन की आदि| Kshemkari Academy के एक्सपर्ट्स क्वोटेशन पर सलाह देते हुए निर्यात व्यापार में आगे बढ़ते है| क्वोटेशन एक महत्वपूर्ण दस्तावेज है जो निर्यातक के साथ-साथ खरीदार को भी लाभ देता है और इस क्वोटेशन को व्यवस्थित रखने के लिए एक चेकलिस्ट तैयार की जाती है | इस चेकलिस्ट में सभी महत्वपूर्ण विषय पर ध्यान दिया जाता है- जैसे मूल्य, डिलीवरी का समय, कर, बैंक शुल्क और परिवहन मो

Read More
  • 01 May
  • 2019

व्यापार सम्बंधित एक आधारभूत आवश्यकता- गोदाम |

Kshemkari  Export Import Academy के एक्सपर्ट्स जरुरतमंद व्यापारियों के लिए गोदाम के कच्चे माल का भंडारण और माल वितरण करने में आपकी मदद करेंगे| एक्सपर्ट्स द्वारा दी गयी जानकारी लेने के लिए पोस्ट को विस्तारपूर्वक अवश्य पढ़ें| गोदाम का उपयोग व्यापारियों द्वारा माल के भंडारण के लिए किया जाता है, जिसे बाद में वितरित किया जाता है| यह मुख्य रूप से असुरक्षित घटनाओं से उत्पन्न होने वाले नुकसान को रोकने के लिए प्रयोग में लाया जाता है। निर्यता व्यापारी आमतौर पर माल को गोदाम में संग्रहित करते हैं और इसे आवश्यकतानुसार जारी करते हैं| गोदाम उत्पाद की प्रकृति, ग्राहकों की आवश्यकता और सेवाओं के अ

Read More
  • 23 Apr
  • 2019

आईये जानें - Business Incubation (व्यापार ऊष्मायन)

आज इस पोस्ट में विस्तार से "Business Incubation Live Project" के विषय में चर्चा करेंगे| इस पोस्ट के माध्यम से सिखाया जायेगा कि आप भी अपने निर्यात-आयात शिपमेंट को कैसे खुद कर सकते है| एक्सपर्ट्स द्वारा विशेष रूप से "Business Incubation" पर ध्यान दिया जाता है |  "Kshemkari export import Academy" सफल निर्यात / आयात में आपकी मदद करती हैं और आपके निर्यात शिपमेंट के सपने को वास्तविकता में बदलने में भी मदद करती है| Kshemkari Export Import Academy में पंजीकरण पहले आओ पहले पाओ के आधार पर किया जाता है| इस पंजीकरण से आपको निम्न प्रकार से लाभ प्राप्त होते है| जैसे - 1) एक्सपोर्ट आयात व्यापार सेटअप   2) निर्यात

Read More

Free Expert Advice
9829693797